मेडिएशन फोरम में न्यायार्थियो को मिलेगी नि:शुल्क व्यवस्था -najarianews.in

794 Views

– मेडिएशन फोरम (मध्यस्थता केन्द्र) शुरू

– मुसिफ कोर्ट से दो मामले मध्यस्थता के लिए भेजे गये मध्यस्थता केन्द्र

विकाश प्रकाश जिला प्रभारी
नजरिया न्यूज अररिया  : न्यायार्थियो के हितार्थ सिविल कोर्ट अररिया में मेडिएशन फोरम पूर्णरूपेण क्रियाशील हो चुका है।

यह बातें जिला जज राम प्रकाश के हवाले से बुधवार को अपने कक्ष में आयोजित संवाददाता सम्मेलन के दौरान तृतीय अवर न्यायधीश सह जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव संजीब कुमार ने कही है। 

सचिव ने कहा कि पटना हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस ए.पी शाही के निर्देश के आलोक में समयानुसार 31 जनवरी के पूर्व ही सिविल कोर्ट परिसर स्थित पुराने एफ.टी.सी कोर्ट भवन में तत्कालिक रूप से मेडिएशन फोरम (मध्यस्थता केन्द्र) सुचारू रूप से कार्य में आ गया है।

उन्होने बताया कि मेडिएशन के लिए मुंसिफ कोर्ट से दो मामले भी आ चुके है, जबकि विभिन्न न्यायालयो में मध्यस्थता हेतु वादो आने की प्रबल संभावनाए हे। विभिन्न न्यायालयो के द्वारा तत्परता के साथ पक्षकारो से मिलकर उनका सहमति प्राप्त कर सुलहनीय वादो को चिन्ह्ति करने की प्रक्रिया तेजी से की जा रही है, ताकि अधिकाधिक मामले मेडिएशन फोरम (मध्यस्थता केन्द्र) के पटल पर भेजे जा सके।

इस कार्य के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकार से जुडे़ सभी पचास पैनल अधिवक्ता सहित रिटेनर अधिवक्ता भी न्यायलयो एवं दोनो बार के सैकड़ो अधिवक्ताओ से सम्पर्क करके उन्हे मध्यस्थता के संबंध में निरंतर विधिक जागरूकता फैलाने मे ंजुटे हुए है।

सचिव ने बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकार के उपाध्यक्ष सह जिला पदाधिकारी अररिया के माध्यम से भूमि सुधार डीसीएलआर अररिया व फारबिसगंज तथा एसडीओ अररिया व फारबिसगंज के न्यायलयो में लंबित प्री-लेटिगेशन मेटर्स चिन्ह्ति कर विहित प्रपत्र के साथ मेडिएशन फोरम (मध्यस्थता केन्द्र) को निष्पादन के लिए विधिक सम्मत रूप से रेफर करने हेतु अनुरोध किया गया है ताकि न्यायार्थियो को ससमय मध्यस्थता प्रक्रिया का लाभ प्राप्त हो सके और न्यायालय मे ंलंबित वादों का शीध्रता और सुलभता से निष्पादन हो सकें।

बताया गया कि बिहार राज्य विधिक सेवा प्राधिकार पटना के निर्देशानुसार जिला अधिवक्ता संध के युवा अधिवक्ता विनीत प्रकाश व नीरज प्रसाद तथा जिला बार एसेसिएशन के अधिवक्ता कुमारी बीणा, मो अकरम हुसैन व नीरज कुमार अधिवक्ता मध्यस्थ के रूप में कार्य करने लगे है, ये पॉचो अधिवक्ता मेडिएशन फोरम (मध्यस्थता केन्द्र) में मध्यस्थ के रूप में कार्य हेतु मध्यस्थता के दौरान विभिन्न तिथियो को अपनी उपस्थित दर्ज कर रहे है।

विभिन्न न्यायालयो के मैट्रीमोनियल, डायवोर्स, रेस्टूरेशन, एलीमोनी- मेन्टेन्स संबंधित वादो एवं सभी प्रकार के सुलहनीय आपराधिक वादो व दीवानी वादो जिनमे सुलह की संभावना प्रतीत होती है वैसे चिन्हित वादो को मेडिएशन फोरम (मध्यस्थता केन्द्र) को निष्पादन हेतु भेजे जाने की तैयारी जोरो पर चल रही है।

विशेष जानकारी देते हुए बताया गया कि मेडिएशन फोरम (मध्यस्थता केन्द्र) में चलने वाले सभी विवादो के निपटारा में होने वाले वैधिक खर्च का वहन डीएलएसए उठायेगी। इसमे न्यायार्थियो को कुछ भी खर्च करने की जरूरत नही है। मध्यस्थता दोनो पक्षो के लिए समान रूप से लाभकारी सिद्ध होंगें। मध्यस्थ की सुविधा डीएलएसए के द्वारा चयनित अधिवक्ताओ के द्वारा नि:शुल्क होगी और सभी खर्चे डीएलएसए के द्वारा नियमानुकूल वहन किया जायेगा। इससे न्यायालयो में लंबित वादों की संख्या भी निश्चित रूप से कमी आयेगी। तथा न्यायार्थियो को शीध्र समय पर न्याय की प्राप्ति होगी व न्यायार्थी अनावश्यक परेशानी व खर्च से बच सकेंगें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!