पान,बीड़ी,खैनी,सिगरेट एवं गुटखा बंद…पकड़े जाने पर एक लाख रुपये जुर्माना और सात साल की जेल-Najaria
593 Views

Vikash Kumar (Beauro)

Najaria News @Purnea तम्बाकू के खिलाफ पूर्णिया जिला प्रशासन ने सघन अभियान छेड़ दिया है,किसी भी सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान करने वालों पर दण्डात्मक करवाई का निर्देश दिया जा चुका है.

पूर्णिया को तम्बाकू मुक्त जिला बनाने के लिए जिला पदाधिकारी द्वारा निर्देश जारी किया गया है कि तम्बाकू उत्पाद के निर्माता,थोक एवं खुदरा विक्रेता अब बिना बोर्ड के तम्बाकू उत्पाद नही बेच सकेंगे.
किसी भी शैक्षणिक संस्थानों के 100 गज के दायरे में किसी भी तरह के तम्बाकू उत्पाद नहीं बिकेंगे,इसके लिए जिला शिक्षा पदाधिकारी को निर्देश जारी कर दिया गया है.बच्चों और अवयस्कों को तम्बाकू उत्पाद बेचने पर लगेगा 1 लाख तक का जुर्माना और होगी 7 साल तक की सजा.

सीड्स के द्वारा तम्बाकू नियंत्रण हेतु जिला,अनुमंडल और प्रखंड स्तर के पदाधिकारियों का किया गया संवेदीकरण.बताते चलें कि पूर्णिया जिला के सभी संबंधित अधिकारियों को तम्बाकू नियंत्रण के गुर सिखाने के लिए राज्य सरकार की तकनीकी सहयोगी संस्थान सीड्स और जिला तम्बाकू नियंत्रण कोषांग के संयुक्त तत्वावधान में आज जिला पदाधिकारी प्रदीप कुमार झा की अध्यक्षता में समाहरणालय सभागार मे जिलास्तरीय उन्मुखीकरण सह प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित की गई.

कार्यशाला का शुभारम्भ जिला पदाधिकारी श्री प्रदीप कुमार झा ने किया.जिला पदाधिकारी ने बताया कि तम्बाकू के दुष्परिणामों से बच्चों और अवयस्कों को बचाना बहुत आवश्यक है.उन्होंने जिला शिक्षा पदाधिकारी को निर्देश दिया कि स्कूलों में इस कार्यक्रम का संचालन किया जाय और सभी शिक्षण संस्थानों के पास से तम्बाकू उत्पाद की दुकानों को यथाशीघ्र हटाया जाए.इस आदेश के उलंघनकर्ताओं को COTPA, JJ A ct सहित विभिन्न धाराओं में दंडित किया जाएगा.

जिला पदाधिकारी महोदय ने सभी संबंधित पदाधिकारियों को अपने अपने कार्यक्षेत्रों में कोटपा 2003 के विभिन्न धराओं का शत प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया.सीड्स के कार्यपालक निदेशक दीपक मिश्रा ने प्रस्तुतिकरण के माध्यम से तम्बाकू नियंत्रण की आवश्यकता पर बल दिया और बिहार के विभिन्न जिलों में अब तक किये गए गतिविधियों की विस्तृत जानकारी दी.

श्री मिश्रा ने बताया कि बच्चे व युवा तम्बाकू उद्योग का सबसे सॉफ्ट टारगेट होता है जिन्हें लुभाने के लिए तम्बाकू कंपनी तरह-तरह के हथकंडे अख्तियार करती है.श्री मिश्र ने तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम में सभी विभागों को अपनी भूमिका निभाने का सुझाव दिया.

अंत मे जिला नोडल पदाधिकारी डॉ विष्णु अग्रवाल ने धन्यवाद ज्ञापन किया.विदित हो कि हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संघठन और भारत सरकार द्वारा प्रकाशित GATS 2 के सर्वे में बिहार में तम्बाकू सेवन करने वालों में काफी कमी आई है, यह आंकड़ा 53.5% से घट कर 26.9% हो गई है.उक्त कार्यशाला में डीडीसी राम शंकर, सिविल सर्जन डॉ के एम पूर्वे, सीड्स के कार्यपालक निदेशक दीपक मिश्रा,सदर अस्पताल के अधीक्षक डॉ जी के घोष,अनुमंडल पदाधिकारी (बायसी) सावन कुमार,अनुमंडल पदाधिकारी (सदर)डॉ विनोद कुमार,अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी(बनमनखी)विभाष कुमार,सीड्स के कार्यक्रम पदाधिकारी सुनील चौधरी,मनोज कुमार झा,जिला तम्बाकू नियंत्रण कोषांग के नोडल अफसर डीपीएम ब्रजेश कुमार सहित सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं थाना प्रभारियों ने हिस्सा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!