अररिया सीजेएम ने रानीगंज थानेदार को नोटिस भेजते हुए प्राथमिकी दर्ज करने का दिया आदेश-Najaria News
1,047 Views
– रानीगंज थानेदार के द्वारा प्राथमिकी दर्ज करने से किया गया था इंकार, कहा गया था कि दो अलग-अलग क्षेत्र क्रमश: रानीगंज व नरपतगंज की है घटना, इसलिए प्राथमिकी दर्ज नही कर सकते
– धारा178 सीआरपीसी के प्रावधान के तहत प्राथमिकी दर्ज करने का है अधिकार दोनो थाना मे से किसी एक को
विनीत प्रकाश “राजा”
(विधि संवाददाता)
नजरिया न्यूज, अररिया : बहुचर्चित तेजाब हत्याकांड में घटना से संंबंधित सीमा विवाद को लेकर प्राथमिकी दर्ज नही करने पर अररिया के सीजेएम अशोक कुमार शुक्ला ने रानीगंज थानेदार को अविलम्ब एफआईआर (प्रथम सूचना रिपोर्ट) दर्ज करने के साथ-साथ दफन लाश का पोस्टर्माटम (अत्य-परीक्षण) जल्द से जल्द कराने का आदेश जारी किया है।  
सीजेएम ने अपने आदेश में स्पष्ट किया कि धारा 178 सीआरपीसी के तहत रानीगंज थाना को प्राथमिकी दर्ज करने का अधिकार है। 
कोर्ट में मृतक के परिवादी पुत्र कुन्दन कुमार के अधिवक्ता वरूण कुमार सिन्हा ने सीआरपीसी की धारा 178 का हवाला देते हुए सीजेएम से गुहार लगाई गई कि क्यो सीआरपीसी की धारा 178 के प्रावधान के तहत नरपतगंज में हुई घटना को लेकर रानीगंज थाना में प्राथमिकी दर्ज नही हुआ।  अधिवक्ता वरूण कुमार सिन्हा के बहस उपरान्त सीजेएम अशोक शुक्ला ने मामले की गंभीरता को देखते हुए रानीगंज थाना के अध्यक्ष को अविलम्ब एफआईआर (प्रथम सूचना रिपोर्ट) दर्ज करने के साथ-साथ दफन लाश का पोस्टर्माटम (अत्य-परीक्षण) जल्द से जल्द कराने का आदेश भेजा।
बताया जाता है कि मृतक सहदेव मुखिया के पुत्र कुन्दन कुमार के द्वारा पिता के हत्या को लेकर पहले नरपतगंज थाना में प्राथमिकी दर्ज के लिए आवेदन दिया गया था, जहॉ प्राथमिकी दर्ज नही होने पर रानीगंज थाना जाया गया। रानीगंज थाना में भी प्राथमिकी दर्ज होने पर
पुत्र का बयान
मजबुरन कुन्दन कुमार को न्यायालय की शरण मं जाना पड़ा। जहा अररिया सीजेएम अशोक कुमार शुक्ला के कोर्ट में परिवाद पत्र संख्या 1855सी/2018 दिनांक 13-8-2018 को दाखिल करते हुए नरपतगंज बेला बसमतिया के रहने वाले धनी लाल मुखिया, रधिया देवी, सूर्यनारायण मुखिया, बौधी देवी व रानीगंज बरबन्ना के नागो मुखिया, धरेन मुखिया, घोल्टू मुखिया, संध्या देवी को नामजद बनाते हुए उनके विरूद्ध भादवि की धारा 302, 120बी, 364 लगाते हुए कोर्ट से धारा 156(3) के तहत प्राथमिकी दर्ज करने के लिए रानीगंज थाना भेजने की गुहार लगाई गई थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए सीजेएम ने रानीगंज थानेदार को प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश जारी किया। लेकिन बाद के दिनो में रानीगंज थानेदार यह कहकर प्राथमिकी दर्ज नही किये कि घटना क्षेत्र नरपतगंज थाना से संबंधित था।
इसी बात पर परिवादी कुन्दन कुमार के अधिवक्ता वरूण कुमार सिन्हा ने सीजेएम के समक्ष उपस्थित होकर सीआरपीसी की धारा 178 का हवाला दिया। जिसपर गौर करते हुए सीजेएम अशोक कुमार शुक्ला ने रानीगंज थानेदार को अविलम्ब एफआईआर (प्रथम सूचना रिपोर्ट) दर्ज करने साथ ही लाश का पोस्टर्माटम (अत्य-परीक्षण) जल्द से जल्द कराने का आदेश किया।
– अररिया सीजेएम ने रानीगंज थानेदार को नोटिस भेजते हुए प्राथमिकी दर्ज करने का दिया आदेश
इधर, परिवाद पत्र में दर्शाया गया है कि 30 जून को सहदेव मुखिया अपने संबंधी के यहॉ अन्त्येष्टी मे शामिल होने के लिएं नरपतगंज थाना क्षेत्र के बेला बसमतिया गांव गये हुए थे। वही पर धनी लाल मुखिया, रधिया देवी, सूर्यनारायण मुखिया, बौधी देवी ने नागो मुखिया, धीरेन मुखिया, धौल्टू मुखिया, संध्या देवी की मिलीभगत से षडयंत्र रचकर सहदेव मुखिया को जबर्दस्ती तेजाब पिला दिया था। चुकि नरपतगंज बेला बसमतिया के रहने वाले धनी लाल मुखिया, रधिया देवी, सूर्यनारायण मुखिया, बौधी देवी व रानीगंज बरबन्ना के नागो मुखिया, धरेन मुखिया, घोल्टू मुखिया, संध्या देवी आपस में संबंधी है। और रानीगंज बरबन्ना के नागो मुखिया, धरेन मुखिया, घोल्टू मुखिया, संध्या देवी से पूराना विवाद सहदेव मुखिया के होता रहा है इसलिए सभी मिलकर घटना को अंजाम दिये है ऐसा परिवाद पत्र कहता है।
धटना की सुचना पर सहदेव मुखिया के परिजनो द्वारा उनका समुचित इलाज सुपौल जिला के वीरपुर अनुमंडलीय अस्पताल में करवाया गया, जहॉ उसकी हालत खराब होने पर उनके बेहतर इलाज के लिए डॉक्टर ने उन्हे पूर्णिया रेफर कर दिया। पुर्णिया से भी उन्हे बेहतर इलाज के लिए बाहर जाने की तैयारी के लिए रानीगंज आने के रास्ते में अन्तोगत्वा सहदेव की मुत्यु हो गई।
परिवाद पत्र के अनुसार कथित आरोपी धनी लाल मुखिया द्वारा कुन्दन कुमार को बतलाया गया था कि उनके पिता सहदेव मुखिया इसी खराब हालत में उनके यहॉ गये थे। 
परिवाद पत्र के अनुसार कथित आरोपी क्रमश: नागो मुखिया, धरेन मुखिया, घोल्टू मुखिया, संध्या देवी से कुन्दन कुमार के परिवार व उनके समाज के लोगो से मछली मारने की बात को लेकर पुराना रंजिश चला आ रहा है, जिस बात को लेकर अनुमंडल पदाधिकारी अररिया के न्यायालय में धारा 107 सीआरपीसी के तहत मुकदमा संख्या- 170एम 2018 एवं धारा 144 सीआरपीसी के तहत मुकदमा संख्या- 673एम2018 हाल तक चला है तथा फिलवक्त सिविल कोर्ट अररिया में कुन्दन कुमार के पक्ष के लोगो के द्वारा दर्ज रानीगंज थाना कांंड संख्या- 326/17 एवं रानीगंज थाना कांड संख्या- 425/17 लंबित है। इसके अलावा परिवाद पत्र में दर्शाया गया कि कुन्दन कुमार के पक्ष के लोगो के द्वारा एक सनहा आवेदन पत्र अनुमंडल पदाधिकारी अररिया के न्यायालय में दिया गया है जिसमें कथित असामी नागो मुखिया के द्वारा पर्वू दुश्मनी के चलते बराबर धमकी कुन्दन कुमार के पिता सहदेव मुखिया को देते रहते थे कि तुम्हे तेजाब पिला कर मारेंगें।
परिवाद पत्र में यह भी दर्शाया गया कि कथित आरोपी रधिया देवी व बौधी देवी नागो मुखिया की खास ़फुफेरी बहन है तथा घटना 30 जून 2018 को नागो मुखिया अपनी फुफेरी बहन के यहॉ गये हुए थे।
परिवादी कुन्दन कुमार ने परिवाद पत्र के माध्यम से दावा किया कि पूर्व दुश्मनी के कारण कििात आरोपी नागो मुखिया व अन्य मिलकर उनके पिता को साजिश रचकर उसका अपहरण कर उसे जबर्दस्ती तेजाब पिला दिया, एवं पुन: साजिश रचकर कथित आरोपी धनी लाल मुखिया के सहयोग से हमलोगो को फोनेस सूचना भिजवाया, इसप्रकार जर्बदस्ती तेजाब पिलाने से परिवादी कुन्दन कुमार के पिता सहदेव मुखिया की मृत्यु हो गई।
परिवाद पत्र मे स्पष्ट लिखा गया है कि परिवादी के पिता के शरीर पर जला हुआ निशान एवं आगे का दॉत भी टूटा हुआ था।
परिवाद पत्र के अनुसार दिनांक 02-07-2018 को आनन-फानन में आकर ग्रामीणो के सहयोग से सहदेव मुखिया की लाश को दफना दिया गया, परन्तु सहदेव की हत्या का षडयंत्र की गुप्त सूचना मिलने पर परिवादी कुन्दन कुमार के द्वारा इसकी जानकारी बेला बसमतिया थाना में दिया गया तथा लाश का पोस्टमार्टम हेतू अननुय विनय किया गया, परन्तु वहॉ से रानीगंज थाना भेज दिया गया। रानीगंज थाना के बड़ा बाबु आवेदन यह कहकर लौटा दिये कि घटना बेला बसमतिया नरपतगंत की है। कुन्दन कुमार पुन: नरपतगंत थाना गये। वहॉ कोई फलाफल उन्हे नही मिलने पर इस बात की लिखित सुचना उनके द्वारा एसपी, डीएम से लेकर डीआईजी तक दिया गया, परन्तु लाश का पोस्टमार्टम के लिए कही से कोई भी कारवाई नही की गई।
अन्त में परिवादी कुन्दन कुमार ने परिवाद पत्र के माध्यम से सीजेएम से गुहार लगाते हुए लिखा कि सभी आसामियान के विरूद्ध विधि सम्मत कानूनी कार्यवाही करते हुए मेरे पिता सहदेव मुखिया की लाश का पोस्टमार्टम (अंत्य-परीक्षण) एवं रिर्पोट इत्यादि की जॉच हेतू संबंधित थाना को आदेश दिया जाय।

इधर, कथित आरोपियो का पक्ष जानने के लिए उनसे सम्र्पक साधने पर नजरिया न्यूज को बतलाया गया कि उनसबो के उपर लगाये गये आरोप सरासर बेबूनियाद है। 

One thought on “
अररिया सीजेएम ने रानीगंज थानेदार को नोटिस भेजते हुए प्राथमिकी दर्ज करने का दिया आदेश-Najaria News”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!